Startups क्या होते है?- हिंदी में…..

startups in india

 

भारत में आये दिन आप खबरों में सुनते

ही होंगे की आज फलाने Startup को फंडिंग मिली।

तब आपके जहन में सिर्फ

एक ही बात होती होगी की

actual में Startups होते क्या है।

तो आज के इस Article में

मैं आपको Startups क्या होते है

और उससे सम्बंधित विस्तृत

जानकारी देने वाला हूँ।

 

 

startup-1

 

 

startups meaning

Startups एक तरह की

छोटी सी company ही होती है।

जिसमे Entrepreneur (उद्यमी)

किसी idea को इम्प्लीमेंट

करने की कोशिश कर रहा होता है।

किसी Startup में वो या तो अकेला होता है

या किसी में एक समूह (Group) में होते है।

वे ज्यादातर अपने निजी अनुभवों के कारण

Startup की और अग्रसर हो रहे होते है।

 

Startups के प्रकार :-

types of startups in india

 

बहुतांश Startups Product-based या Service-based होते है।

Product-based जैसे की नाम दर्शा रहा है,

इसमें उद्यमी ने अपने आईडिया को प्रोडक्ट में तब्दील कर दिया है।

Service-based, जिसमें Entrepreneur अपनी Expertise के अनुसार,

clients को सर्विस provide करता है। दोनों ही प्रकार के उद्यमी अपने Startup को,

एक Scalable business model बनाने का प्रयास कर रहे होते है।

Scalable एक Startup शब्द (jargon) है।

जिसमें Entrepreneur अपने idea (product) को

J-curve देने की कोशिश करता है।

J-curve  मतलब की एक प्रकार की Graph परिस्तिथी

जिसमें एक ड्राप के बाद अचानक उछाल दिखाई देता है।

जिसे Exponential -Growth curve भी कहा जाता है।

 

 

 

Digital Marketing के बारे में यहाँ जाने 

 

 

Startups का हमारे दैनिक जीवन में महत्व:-

 

Innovation किसी भी Startup का प्रमुख लक्ष्य होता है।

कैसे वह अपने clients को नए अनुभव करायें

एवं उनकी समस्याओं का समाधान करें।

कैसे उनके जीवन का एक प्रमुख हिस्सा बन पाए।

 

types of startups with examples

 

उदा. के तौर पर:  Amazon जो की विश्व की सबसे बड़ी E-commerce कंपनी है।

दरअसल एक Startup ही है।

हम सभी जानते है की Jeff Bezos ने Amazon की शुरुआत अपने घर के garage से की थी।

शुरुआती दौर में वे इसपर सिर्फ किताबें बेचा करते थे।

आगे चल कर उन्होंने जरुरत की हर छोटी बड़ी चीज़े बेचना शुरू किया।

 

इसी तरह Apple , Google , एवं Microsoft भी एक तरह के startups ही थे।

इन सब startups अब कंपनियों ने हमारी दैनिक समस्याओ

का न सिर्फ निवारण किया।

बल्कि हमारे अनुभवों को अपने innovations के चलते

एक कमाल का अनुभव भी प्रदान किया है।

साथ ही साथ वे हमारे रोजमर्रा के जीवन का अभिन्न अंग भी है।

 

Startups का इतिहास:-

 

startups history

history of startups in india

 

Startups  कोई आज के दौर का विषय नहीं है ।

ये यही था पर आज के दौर में यह खासा चर्चा का विषय है।

जैसा की हमने उपर्युक्त उदाहरणों में जाना की यह चीज़ एक अरसे से यही पर है।

पर यह अलग बात है , की उस समय Jeff Bezos लोग को भी Startups क्या होते है पता हो :O 

 

startups in history

startup hub of the world

 

 इसकी शुरुआत बहुत पहले America  की Silicon Valley से हुई।

जो की गवाह थी बहुत से startups की सफलता की।

 

startup hub of india

startup hub in bangalore

 

आज Silicon-valley के साथ-साथ

भारत के Bangalore का भी नाम जाना जाता है।

भारत में Bangalore ,Startup-hub के नाम से प्रसिद्ध है।

 

क्या आप जानते है: 

भारत में Bangalore में सबसे ज्यादा Startups रजिस्टर किये जाते है।

 

बहुत से जानकार मानते है की, 2008 की मंदी के बाद से ही

भारत में Startups की सुगबुगाहट शुरू हो चुकी थी।

पर बहुत कम लोगों को ही इसका पता था।

Policy-bazaar , Icertis आदि का जन्म मंदी के दौरान ही हुआ था।

the policy bazaar

 

Indian Startups इतने सफल क्यों?…

 

Indian startups सफल होने के बहुत से कारण है। यहाँ हम कुछ चुनिंदा कारणों पर नज़र डालते हैं।

 

A) Internet का प्रसार :- 

 

Jio के आने के बाद से ही देश के कोने-कोने में internet के उपभोक्ता बढ़ गए है।

इससे ज्यादातर startups को भारत के Tier-3 एवं remote इलाकों से कस्टमर बेस मिल रहा है।

मोबाइल इंटरनेट के द्वारा startups एवं customers में communication (two-way) हो चूका है।

इसकी वजह से कस्टमर्स को अलग- अलग विकल्प भी मिल गए है।

एवं इंटरनेट की सहायता से Customers को बहुत सी

महत्वपूर्ण जानकारी मोबाइल पर ही मिल जाती है।

 

B) Government Schemes :- 

 

startup india scheme

startup india app

 

भारत सरकार ने Startup-India scheme के द्वारा

बहुत से नए Entrepreneurs को आर्थिक सहायता प्रदान करती है।

इसके साथ-साथ विभिन्न प्रतियोगिताएं कराकर subsidy भी मुहैया करती है।

भारत के ग्रामीण इलाकों के लोग भी अपने start-up को भी

भारत सरकार Funds प्रोवाइड करती है। सरकार ने किसी भी startup को चलने हेतु

Paperwork एवं Compliance को भी कम कर दिया है।

 

C) Indian Youths :-

 

भारत की जनसंख्या, अब लगभग 135 करोड़ के आस- पास है।

उनमे से करीब-करीब 50% से ज्यादा लोग उम्र के 40 के नीचे है।

तो भारत में युवाओ की कोई कमी नहीं है।

इन सब पढ़े-लिखे युवाओ की संख्या भी ज्यादा है।

इनमे से ज्यादातर अपना व्यवसाय या फिर startup करना चाहते है।

बहुत से college students भी अपने अतरंगी

startup-ideas को स्वरुप देने का प्रयास कर रहे है।

 

Startups की Funding के बारे में जाने:-

funding a startup in india
startup funding advisory

Startups की Funding भी विविध प्रकार से विकसित होती है।

आइये जानते है हम Startups की Funding के बारे में संक्षिप्त में

 

a) Bootstrapping :- 

 

जब भी कोई Entrepreneur (उद्यमी)

अपना कोई Startup की शुरुआत करता है।

तो वह सबसे पहले अपनी Savings को दांव पर लगाता है।

बाद में जरुरत पड़ने पर वह अपने परिवार, दोस्तों

के द्वारा जो भी निवेश राशि लेता है।

उसे Bootstrapping कहते है।

यह बहुत शुरुआती funding होती है।

पर कुछ Startups बहुत सालों

तक Bootstrapping का ही सहारा लेता है।

 

b) Seed-Funding :-

 

seed funding meaning

seed funding for startups

 

एक समय के बाद Startup जब थोड़ा परिपक्व होने लगता है।

और उसे Expand करने के लिए,

जो Angel-investors fund करते है उसे seed-funding कहते है।

वे लोग जो फ़रिश्ते की तरह

आपको शुरुआती दिनों में मदद करते है

वे होते है Angel-Investors.

Angel-Investors ye एक High-net-worth वाले व्यक्ति होते है।

Seed-Funding के द्वारा आप अपने Startup का विस्तार करते है।

 

c) Series-Funding :- 

 

series funding india

series funding 101

 

Seed-funding के बाद आप अपने Startup को

और ज्यादा profitable बनाना चाहते है।

इसके चलते Series-funding होती है।

जैसा नाम वैसी ही सीरीज में मतलब की

A , B, C, D…F  तक की series-funding होती है।

इसी दौरान कोई भी Startup unicorn बन सकता है।

Unicorn का मतलब ऐसे Startups

जो की 1-Billion-Dollar (7500 crores) का

Valuation कर चुके है।

 

d) Public-Funding :-

 

public funding kya hota hai

public funding meaning

public funding for startups

अब अगर उद्यमी चाहे तो

वह अपने Startup को Public-company के तौर

पर शेयर बाजार में लिस्ट कर सकता है।

इसमें वह अपने पास के शेयर्स को

IPO के द्वारा पब्लिक के सामने पेश करता है।

जैसे की हालही में Zomato  का IPO हो

या Frshworks का NASDAQ में लिस्टिंग हो।

ये तरीका है पब्लिक के द्वारा Fund-raise करने का।

 

इसके साथ यह Article समाप्त होता है।

अगर आपको ये Article पसंद आया हो तो इसे Share जरूर करें।

अब मैं आपसे मिलता हूँ ऐसी ही किसी रोचक जानकारी के साथ।

तब तक के लिए आप सब का बहुत-बहुत

धन्यवाद्…….!!!

Leave a Comment

error: Content is protected !!