Cyber-bullying क्या होती है?.. इससे कैसे बचें?..

आजकल के बच्चो से लेकर बुजुर्गो तक

सब अपने कार्यों के लिए मोबाइल का

अधिकतम इस्तेमाल करते है।

पर आज कल बहुत से बच्चे

Cyber-bullying का शिकार हो रहे है।

आइये जानते है क्या होती है

Cyber-bullying.

 

 

Cyber-2

 

 

Cyber-bullying का मतलब होता है

टेक्नोलॉजी (Internet) के माध्यम से

किसी को परेशान करना।

 

Amazon से शोपिंग करें यहाँ

 

उदहारण के तौर पर

स्कूल, कॉलेज या ऑफिस में

आपको आपके दोस्त या साथी

आपके बाहरी रूप को

लेकर आपका मजाक करते है।

आपको भी यह मजाक एक समय तक

ठीक लगता है और फिर

आप को भी वो मजाक असहनीय हो जाता है।

ये भी एक प्रकार की

bullying (बदमाशी) ही है।

अगर यही चीज़ इंटरनेट के

माध्यम से की जाएं तो

वह cyber-bullying कहलाई

जाती है।

 

क्रिसमस क्यों मनाया जाता है?

 

इसके बहुत से उदहारण है,

जैसे आप फेसबुक या

इंस्टाग्राम पर अपनी फोटो

कैप्शन के साथ डालते है

तो कोई आप पर भद्दे

कमैंट्स करता है

वह भी cyber-bullying का ही प्रकार है।

 

भारत में ही पुरे में से लगभग 10-12%  इंटरनेट उपभोक्ता cyber-bullying का शिकार हो चुके है।

 

Cyber-bullying के दुष्प्रभाव:-

 

cyber-bullying से पीड़ित इंसान

ना तो अपने घर वालो से शेयर कर सकते है

ना तो दोस्तों को बता सकते है।

इसी वजह से वे लोग

बहुत परेशान,

एवं निराश, दुखी रहते है।

यह सब प्रभाव बहुत समय तक रह सकते है।

 

ऐसे लोगों को सिरदर्द की

बिमारी, अनिद्रा, पेटदर्द

की शिकायत भी हो सकती है।

पर यह सब दुष्प्रभावों पर काबू पाया

जा सकता है।

और cyber-bullying से  पीड़ित लोग

फिर से आत्मविश्वास पा सकते है।

https://www.statista.com/chart/15926/the-share-of-parents-who-say-their-child-has-experienced-cyberbullying/

 

Cyber-bullying से निजात पाने हेतु

फेसबुक एवं इंस्टाग्राम साथ ही twitter

ने बहुत सी पॉलिसी का गठन किया गया है।

 

Cyber-Fraud भी cyber-bullying का

एक उदाहरण है।

यह किस तरह से काम करता है।

 

मान लीजिये की आप को

इंटरनेट सर्फिंग के दौरान

कोई चीज़ पसंद आयी

और आपने बिना वेबसाइट

की जांच पड़ताल के ही

ऑनलाइन पैमेंट कर दिया

और अब उस चीज़ के

डिलीवर होने का इंतज़ार कर रहे थे।

पर वह चीज़ डिलीवर नहीं हुई।

यह एक प्रकार की cyber-bullying ही हुई।

 

Cyber-bullied हो जाने पर क्या करें ?…

 

इस दुनिया में कोई भी cyber-bullying

का शिकार हो सकता है। अगर कोई

पीड़ित हो जाता है तो डरने की कोई बात नहीं होती है।

सबसे पहले उस घटना के बारे में cyber-cell में रिपोर्ट करें।

 

कोई इंटरनेट पर कमेंट करें

उसी के बारे में ना सोचे।

आप कुछ समय के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल

करना बंद कर दे। पर यह कोई स्थायी निवारण नहीं है।

अगर आपने गलती नहीं की तो

इंटरनेट के अनगिनत उपयोगों से वंचित

क्यों रहे।

 

फेसबुक एवं ट्विटर में कम्युनिटी के पेज पर

आप इस cyber-bullying की घटना का विवरण दे

सकते है।

बहुत सी इंटरनेट बेस्ड कंपनिया

इस दिशा में सफलता पूर्वक काम कर रही है।

 

 

Cyber-bullying एक जघन्य

अपराध है। इसे तत्काल रिपोर्ट करें।

इससे दुसरो को मदद मिलेगी।

अभी तो इंटरनेट की सेवाएं

अपने शुरुआती दौर में है।

आगे तो ये और भी चलन में

रहेगी। साथ ही इससे जुड़े

अपराधो में भी वृद्धि होगी।

इसीलिए सावधान रहे, सतर्क रहे 🙂

धन्यवाद्

Leave a Comment

error: Content is protected !!